चर्मरोग अगर आपको हैं तो आज मैं पांच ऐसी चीज़ें बताऊंगा जिन्ने आप एडिशनल, रेमेडी की तरह अपनी रुटीन में एड़ कर सकते हैं इसमें कोई आपको ज़्यादा मेहनत नहीं करने. बहुत एजी हैं पर नुकसान ना के बराबर हैं

चर्मरोग अगर आपको हैं तो आज मैं पांच ऐसी चीज़ें बताऊंगा जिन्ने आप एडिशनल, रेमेडी की तरह अपनी रुटीन में एड़ कर सकते हैं इसमें कोई आपको ज़्यादा मेहनत नहीं करने.
बहुत एजी हैं पर नुकसान ना के बराबर हैं

फायदा किसी को कम होगा, किसी को ज़्यादा क्योंकि कई-काई बार हम स्टक होते हैं फसे हुए होते हैं कई-ऐसी सिच्वेशन में जहां मेडिसिन्स भी काम नहीं कर रही होती हैं और ऐसे में कई-बार कोई एक प्राशा चीज जाती है

हमें इतना प्राशा दे जाती है कि हम वो सिच्वेशन से या तो बाहर आ जाते हैं, या बहुत ज़्यादा रिलीफ फिल करते हैं तो क्यों ना ऐसी चीजों को हम आजमा कर देख लें तो सबसे पहले आपको करना है कि आप अपने
प्राबलम को अडेंटिफाई करें कि आपको वात बढ़ने यानि वायू बढ़ने से स्किन प्राबलम है या फिर पित बढ़ने, गर्मी बढ़ने से अंदर प्राबलम है क्योंकि ज़्यादा तर वात पित बढ़ने से ही
स्किन प्राबलम होती है या फिर इन दोनों के बढ़ने से किसी किसी को बहुत रेर कफ बढ़ने से होगी, यानि कि बॉड़ी में वाटर कंटेंट, पानी का तत्व बढ़ गया तब प्राबलम हुई, ऐसे में वात पित बढ़ने से ही स्किन प्राबलम होगी तो पानी बहेगा, लार बहेगी,
मवाद बहेगा, कफ बहेगा यह साइन होते हैं बाकि जो वात वायू बढ़ने वाले स्किन की प्राबलम होगी वो ड्राय ड्राय स्किन प्राबलम होगी वो पानी बहेगा, लार बहेगा, कफ बहेगा
यह साइन होगी वो पानी बहेगा, लार बहेगा, कफ बहेगा यह साइन होगी वो पानी बहेगा, लार बहेगा, कफ बहेगा यह साइन होगी यह साइन होगी यह साइन होगी यह साइन होगी आत और पित वायू और गर्मी
दोनों के बढ़ने से अगर प्रोबलम्स हुई हैं यह किसी एक के बढ़ने से अगर बढ़ना हुई हैं तब तो यह बहुत सचस्पूल रहे है अगर कफ के बढ़ने से यह फिर तीनों के बढ़ने से हुई है तब यह रेमडिस ना करेंगा चले चर्चा को शुरु करते है
सबसे पहले अपनी काले रंग के डार्क दीखे रंगों के कपड़े इनको थोड़े समय के लिए अवाइड करेंगा, ना पहने इनसे आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में आपकी बोड़ी में
इन दोनों ही तत्तुमों में एक में वात, पीले में वात कम करने की शक्ति है, नीले में पित्त कम करने की शक्ति है. आप दोनों के मिश्रण से बने, सहरे रंके कपड़ों से, हलका मैसूस करेंगे. दूसरे नमबर पर आपको क्या करना है,
आप तेज रोशनी दूप की अबॉएड करेंगे, आपको वाटिमेंडी लेना है, कैसे लेंगे? आप कोशिश करेंगे, अगर थोड़ी बोसकीन परबलम है, तो पीठ पे सेर के रोशनी लगवाएं सूरज की, चाती पे चहरे पे ना लगवाएं,


उससे पित बडने का लीवर पे सेर रोशनी पड़ें सूरज की, पित या चहरे पे सेर रोशनी पड़ें सूरज की, पित बड़ने के चांसिस होते हैं, आप पीठ पे सेर रोशनी लगवाएं सूबा की, हलगी हलगी, उससे होगा क्या? आपको वाटिमेन डी बी मिल जाएगा,
लेकिन आपकी स्किन परब्रम नहीं बढ़ेगी, वाटिमेन डी काई बार कम होता है, तब भी विमारीयां नहीं ठीक हो रही होती, वाटिमेन डी तो लेना है, सूरज से ही मिलना है, अब ऐसे में आपको पीठ पे दूप लगवाने नहीं है, लेकिन अगर पीठ पे दूप लगवाने में भी दिक्कत हो, क्योंकि पीठ पे भी स्किन परब्रम बहुत जाएगा,
और वो बढ़ रही है, तो ऐसे में कोशिश करें, कि आप किसी तरह से अपने आपको हरे कपड़े से, या सफेध कपड़े से धखने, और मल मल का कपड़ा होना चाहिए, जिससे कि आरपार थोड़ी सूरज की रॉश्णी भी जाए,
तब सूरज की रॉश्णी में बैठें, उससे और फायदा होगा, आपको खलकी रॉश्णी भी मिल जाए, और आपका पित्त भी नहीं बढ़ेगा शरीने, अब पसिना आता है दूब लेने के बाद, तो नहा जरूर लें, तांकि पसिना लगा रहने से,
स्कीन परॉणम और ना बढ़े, अगर ये भी संबव नहीं है, दूब में बैठने जाते ही दिक्कत होती है, तो फिर गर के एसी किसी शीशे पे, खिड़की पे, दरवाजे पे, जहां सीशा लगा हो, वहां से सुरॉज की रॉश्णी अगर अंदर आती है, तो उस पे आप हरे रंका कागज लगा दें,
और अगर आपको पता है,
कि आपकी स्किन की परॉलम खाली और खाली, पित और गर्मी बढ़ने से हुई है, तो फिर आप नीले रंका कागज लगा दें, तो ऐसे में आप देखेंगे, कि उससे पार करके रॉश्णी आपके शेरी पे,
आपके जिसमे पे पड़ेगी, तो आप देस, बीस, मिनत, आदा खिन्टा रोज उसके नीचे बैठेंगे, आपकी स्किन परॉलम उसको आराम मिलने लगेगा, यह दूसरी चीज आपने कर दी, तीसरे नमबर पर आपको क्या करना है, हरे रंग की बोतल कांच की लिआ ये,
उसमें तीन चथाई, या तीन भाग पानी भर दीजिए, एक भाग खाली छोड़ दीजिए, हवा के लिए, उसको एर टाइट ढखकन लगा होता है, उसको बंद कर दीजिए, ताँकि उसके वाश गर्मी से बाहर न उड़े, अंदर ही पानी चार्ज हो, उसको अंदर ही रहे, फिर उसको सुरज की राश्णी में रख करके,

आप आ जाये, शाम को उसे चार बज़े के आसपाद, जब सुरज उठरने लगे, तब उठा कर लिया जीए, थोड़ी थंड लग रही है,
या कुछ ऐसा हो रहा, तो आप अगले दिन से थोड़ा कम पी लीजेगा, बाकि अगली सुबा पी लीजेगा, तब तक नए तयार हो जाएगा, आपका रखावा सुबा का पानी, ये आपके काम आ सकता है, यदि आप देखें, कि सुरज का चार्ज किया हुआ पानी पीने से,
समस्यत अराम मिल रहा है, तो आप साथ साथ चांद की रोशनी में भी, इस तरह से चार्ज किया हुआ पानी, प्रयोग कर सकते हैं, वो आप सुबा प्रयोग कर लेना, और सुरज की रोशनी का साथ किया हुआ, वो आपको शाम से लेकर राथ तक प्रयोग कर लेना है, तो आप देखेंगे,
कि आपके अंदर लाइट से ही खुण होने लग जाएगा, अगर आपको पता है, आपको स्किन की परॉलम्स इतनी ज़्यादा एग्रिवेट करी हुई है, कि खुण निकलता है, आप रात के समय में,
खीर बना के बिना मीठे के, खीर बना के चांद की रोशनी में रख दें, मल-मल के कपड़े से उसका मूद ढखे, जिससे आर-पार रोशनी जाए, लेकिन कोई जीव जन्तों ना गिरे, आप उसकी रोशनी से चार्ज की खीर, मिट्टी के बर्तन में रखी हुई,
पितल के बर्तन, कली की बर्तन में रखी हुई, खीर रख के खाईए सुबा-सुबा, कुछ दिन, आपके खून परवाल में खून आना भी बंद हो जाएगा, इतनी अच्छी होती है, ये सारी रेमडियाद लाइट से रिलेटेड हैं, तो आपको ये भी एक चीज आपने कर ले,
इसके बाद आप अपने घर में पन्ना लियाएए, पन्ना का मोती हरे रंग का होगा, इसको आप सफेद रंग का कपड़ा,
उसके अपनी कोई रौशनी ना अपना कोई रंग ना हो, उसके पर रख दिजिये, दो फूट तूर, और चौंकड़ी लगा कर बैठ जाएए, जिस कमरे में परयापत रौशनी हो,


अभ्यास यही रहे कि ,
मैं ना बहुत ज़्यादा आँखे फाड के देखूं ना बहुत ज़्यादा आँखे बंद रखूं .सामान में आँखे कुली बिल्कुल सहज होके दीरे दीरे उस पे एकागरता साधे त्राटक करें उसकी त्राटक करने से भी आपके अंदर पन्ना के गुण आप आकरशित करने लगेंगे
आप इसको अंधविश्वास ना कहिए. ना ही इसे आप बेकार कहिए क्योंकि कई योंको इस साइंस की समझ है कई योंको नहीं है त्राटक, अपने आमें बड़ी ताकतवर विद्या है इससे अगर आप खरीद के प्योर पन्ना कर सकें तो ठीक ना कर सकें तो आपकी मरजी
पांचवा आपको एक अंदिम आज की वीडियो का प्रयोग है जो बताना है.
स्वच्छता:
अपने त्वचा क्षेत्र को साफ और सुरक्षित रखने के लिए नियमित धोएं। उपयुक्त साबुन और गर्म पानी का उपयोग करें, लेकिन ज्यादा गरम नहीं।

मॉइस्चराइजर:
त्वचा को आराम देने के लिए उपयुक्त मॉइस्चराइजर का प्रयोग करें। इससे त्वचा की नमी बनी रहेगी।

सोफ्ट फैब्रिक्स:
रिपेयर के लिए सोफ्ट और ब्रेथेबल फैब्रिक के कपड़े पहनना उपयुक्त हो सकता है, जिससे रगड़ से बचा जा सके।

संतुलित आहार:
आहार में उचित पोषण शामिल करें, जिसमें फल, सब्जियां, प्रोटीन, और हेल्दी तेल शामिल हों।

योग और ध्यान:
स्ट्रेस को कम करने के लिए योग और ध्यान का प्रयास करें, क्योंकि स्ट्रेस त्वचा स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।

अपने किचन में अपनी डाइट में हरे रंग की सबजियां ज़ादा शामिल करिए
जैसे खीरा छिल के समेथ खाईए ककडी खाईए हरे रंग की प्रॉकली खाईए ये सबजियां आपके बड़े काम आ सकते हैं,
ऐसे में कुछ सबजियों को .
आप देखेंगे कि ये हरी हैं लेकिन उनकी ताशीर बड़ी गरम है जैसे करेला होगा मेथी होगी इन सबजियों को प्रयोग कर सकते हैं .
लेकिन ना के बराबर
कभी कबार थंड के दिन में या यूँ कहें कि .
जब आप गर्मी में भी करना चाहें ऐसी सबजियों का प्रयोग उनकी अंदर थंड पड़ी है ,
आपको कफना जाना का काम हुआ हुआ हुआ है ये चीज की सावधानी बस अगर आप रख गए रंग बाहर से नहीं देखना.
अंदर की ताशीर भी देखनी है तो डाइको बैलन्स करके चलना है ये हरी रंग की चीजें बड़े आपकी साथ देखें आपका डिटाउक्स करेंगे और नैचरल उनकी अंदर का जो गलूरोफिल है जो उनकी अंदर का बहुत सारी अक्सिजन
और रिच ग्रीन कलर अंदर उनके है वो आपको खुल करेगा ये पाँचीजें आपके अपने रुटीन में शामिल करें पहले और लाइफ बाद के चेंजिस नोट करें मेरे साथ वीडियो के नीचे सांजा करे.
और जो समय के समय पर जो आपके पासादा देंगे उससे मैं आँएवाले समय में आपको गाइडन्स दोगा वो ये चीज कर लिए लाब हो गया अब ये कसर रह गई ये कम ही रह गई इससे ऐसे ठीक करो और आप देर सबेर देखेंगे.

डॉक्टर की सलाह:
यदि एक्जिमा बढ़ रहा है या असहमति हो रही है, तो डॉक्टर से सलाह लें।यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है कि आप एक चिकित्सक से सलाह लें और विशिष्ट दिशानिर्देशों का पालन करें।

आपको बहुत चमतकारी बहुत ऐसे चोटा सा तिनका भी डूबते होगी वेक्ति को बचा लेता है ये कहावत नहीं है ये दरसल सच है चोटे चोटे चीजें लाइफ में बड़ा अच्छा कंट्रिबुशन कर देती हैं आज फिल्हाल इतना ही नमस्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *